pm gati shakti yojana : गतिशक्ति राष्ट्रीय मास्टर-प्लान में पोर्टल की नई भूमिका

0

pm gati shakti portal

pm gati shakti yojana : पीएम गतिशक्ति योजना का शुभारंभ जब पीएम मोदी ने किया था तब इस योजना का शुभारंभ करने के पूर्व एक बात तो तय थी कि इस योजना का उदद्ेश्य गति देना है। आज हम आपको बता रहे हैं कि पीएम गतिशक्ति योजना का क्या लाभ मिलेगा विद्युत क्षेत्र में यानी बिजली क्षेत्र में। तो आपको बता दें कि जैसा कि प्रधानमंत्री ने पीएम गतिशक्ति- के अंतर्गत राजमार्ग, रेलवे, विमानन, गैस, बिजली पारेषण, नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र आदि शामिल किया गया है इसके अंकतर्गत बिजली पारेषण के विषय पर खासी ऊर्जा क्षेत्र में मजबूती देने का प्रयास किया गया है। चलिये आपको बताते हैं कि क्या है मेगा लक्ष्य।

आत्म निर्भर भारत का भी सपना होगा साकार :

इस तरह "आत्मनिर्भर भारत" का लक्ष्य पूरा होगा। दरअस देेश में बुनियादी ढांचे की बहुविध कनेक्टीविटी देने के लिये तकनीक का इस्तेमाल भी बिजली पारेषण के क्षेत्र में होगा। इसके लिये बीआईएसएजी-एन, गुजरात द्वारा विकसित स्वदेशी इसरो इमेजरी से लैस उपग्रह आधारित उपकरणों जैसी उत्कृष्ट प्रौद्योगिकी को इस्तेमाल किया जायेगा।

Read also -पर्यावरण में स्वच्छ जलवायु के लिये बने मिशन  

पीएम गतिशक्ति एनएमपी पोर्टल के ये हैं लाभ

pm gati shakti national master plan : पीएम गतिशक्ति एनएमपी पोर्टल से बिजली पारेषण परियोजनाओं के विकास में एक सुविधा मिलेगा। इससे पोर्टल इस्तेमाल करने वाले व्यक्तियों को निर्धारित पारेषण लाइन की अस्थायी लंबाई की पहचान करने तथा सब-स्टेशनों का स्थान पता करने में आसानी होगी। संविदा/बोली लगाने के स्तर पर, सर्वेक्षण एजेंसी प्रौद्योगिकीय रूप से बचत वाले सबसे बेहतर रूट के बारे में जानकारी लेगी। कार्यान्वयन की स्थिति में, वास्तविक हालात के आधार पर पारेषण लाइन के रूट को अंतिम रूप देने तथा सब-स्टेशनों का स्थान तय करने में सुविधा होगी। अंत में, स्वीकृति के स्तर पर एक ही स्थान से परियोजना को मंजूरी मिल जायेगी।

बिजली पारेषण क्यों है अहम :

बिजली पारेषण क्यों अहम है इसे लिये हमें यह जानना जरूरी है कि  पूरे देश में नवीकरणीय ऊर्जा का इसके साथ संबंध है। दरअसल बिजली मंत्रालय ने नौ उच्च प्रभावी बिजली परियोजनाओं का काम हाथ में लिया है। इनमें 10 पारेषण लाइनें हैं, जो राजस्थान, गुजरात, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक और तमिलनाडु जैसे नवीकरणीय ऊर्जा समृद्ध राज्यों में फैली हैं। 

pm gatishakti  पोर्टल से अर्चन होगी दूर 

 pm gati shakti portal से आर्थिक जोनों को निर्बाध कनेक्टीविटी के मद्देनजर अवसंरचना आयोजना के लिये सुरक्षित, टिकाऊ, वहनीय और सहभागी नजरिये के माध्यम से देश में अवसंरचना विकास की अड़चनों को दूर करने में मदद मिलेगी। अब, पीएम गतिशक्ति एनएमपी पोर्टल तथा मंत्रालयों, सुविधा केंद्रों और अवसंरचना के लिये योजना सम्बंधी आमूल तथा समग्र दृष्टिकोण के आधार पर, हम एक राष्ट्र के रूप में विश्वसनीय "पावर टू ऑल" को कारगर बनाते हुये पांच ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था के रास्ते पर तेजी से आगे बढ़ेंगे। 

Tags

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !