agneepath yojana : टूर ऑफ ड्यूटी से मजबूत होगी युवा शक्ति

0

भारत की तीनों सेनाओं के प्रमुखों द्वारा अग्निपथ  योजना का खाका तैयार किया गया है। Agneepath Yojana scheme   के तहत सेना में भारतीय सेना में शामिल होने के लिये युवाओं के पास सुनहरा अवसर होगा। इस योजना की शुरूआत अगर हो जाये तो सेना (थल सेना, नौसेना और वायुसेना) में भर्तियां शुरू हो जाएंगी. इस योजना की बात की जाये तो यह योजना भारत के युवाओं के लिये बनी है। इस योजना के तहत युवा कम समय के लिए भर्ती हो सकेंगे और देश की सेवा कर सकेंगे। आईए बात करते हैं नई योजना 'टूर ऑफ ड्यूटी' की : 

agneepath yojana : टूर ऑफ ड्यूटी से मजबूत होगी युवा शक्ति

टूर ऑफ ड्यूटी क्या है? 

what is tour of duty in indian army :  आपके बता दें कि हमारे देश के प्रथम सीडीएस दिवंगत जनरल बिपिन रावत ने 'टूर ऑफ ड्यूटी का सुझाव दिया था।  वह  टूर ऑफ ड्यूटी (Tour Of Duty) प्लान पर काम कर रहे थे जिसके तहत सेना में अधिकारियों को मात्र तीन साल के लिए सेवाएं देनी थी परंतु जब सीडीएस रावत नहीं रहे तो ऐसे में ने इसी तर्ज पर 'अग्निवीर' योजना (Agneeveer yojna )को लाने का प्लान तैयार कर रही है. 

Read-crpf chhattisgarh : नक्सलियों से लोहा लेने बस्तर के युवाओं की भर्ती

भारतीय सेना से ट्रेनिंग से देश की बड़ी युवा आबादी को भारतीय सेना में ट्रेनिंग मिलने से देश की सुरक्षा करने वालों में इजाफा होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ये ड्रीम प्रोजेक्ट है जिसके जरिए सेना में शामिल हो रहे जवानों की औसत उम्र कम करने का प्रयास रहेगा और रक्षा बलों के खर्चे में भी कमी लाई जाएगी. बताया जा रहा है कि योजना के तहत चार साल के लिए युवाओं (Agneepath) को सेना में भर्ती किया जाएगा. हालांकि, चार साल के बाद ज्यादातर जवानों को उनकी सेवा से मुक्त कर दिया जाएगा 

सेना में भर्ती मात्र चार साल के लिए होगी : 

agneepath yojana recruitment 2022-  छह-नौ महीने की ट्रेनिंग भी शामिल होगी. रिटायरमेंट के बाद पेंशन नहीं मिलेगी बल्कि एक मुश्त राशि दी जाएगी. खास बात ये होगी कि अब सेना की रेजिमेंट में जाति, धर्म और क्षेत्र के हिसाब से भर्ती नहीं होगी बल्कि देशवासी के तौर पर होगी. यानि कोई भी जाति, धर्म और क्षेत्र का युवा किसी भी रेजीमेंट के लिए आवेदन कर सकेगा. 

Agneepath Yojana Kya Hai 2022 : अग्निपथ योजना क्या है तो आपको बता दें कि इस योजना में चार साल के अंतराल के बाद जिन युवाओं को सेना की नौकरी से मुक्त किया जाएगा, उन्हें दूसरी जगह नौकरी दिलाने की भी जिम्मेदारी सेना द्वारा ली जायेगी। इस योजना से सेना में 4 सालों तक काम करने वालों की प्रोफाइल मजबूत बन जाएगी और हर कंपनी ऐसे युवाओं को हायर करने में दिलचस्पी दिखाएंगी। चार साल बाद सैनिकों की सेवाओं की समीक्षा की जाएगी. समीक्षा के बाद कुछ सैनिकों की सेवाएं आगे बढ़ाए जा सकती हैं. बाकी को रिटायर कर दिया जाएगा.

indian army agneepath yojana 2022 :   सेना को मिलेंगे जवान-  अलावा सेना में 25 फीसदी जवान बने रह पाएंगे जो निपुण और सक्षम होंगे. सेना को करोड़ों रुपये की बचत भी हो सकती है इस प्रोजेक्ट की वजह से। यहीं नहीं  एक रफ वेतन में भी बचत हो जाएगी तो वहीं दूसरी तरफ सबसे बड़ा लाभ यह होगा कि पेंशन कम लोगों को देनी पड़ेगी 

Tags

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !