Aama Pan Ke Patri lyrics : छत्तीसगढ़ का एक मशहूर जस गीत

0

Aama-Pan-Ke-Patri-lyrics-A-Famous-Jas-Song-Of-Chhattisgarh

Aama Pan Ke Patri Lyrics : हम आपको छत्तीसगढ़ के मशहूर जस गीत  (jasgeet song ) यानी माता का भजन आमा पान के पतरी का हिन्दी में अर्थ बतलायेंगे। Cg Jas Geet : आपको बता दें कि छत्तीसगढ़ में यह मशहूर भजन नवरात्रि के अवसर पर प्राय: सुना जाता है। इस  भजन को मधुर आवाज देने वाले दिलीप षडंगी (dilip shadangi) जी है। आईए इस पोस्ट में आपको इस भजन का मतलब बताते हैं।

cg song lyrics :  इस गीत में देवी को प्रसन्न करने के लिये और उन्हें आमंत्रित करने के लिये आव्हान किया गया है। भक्त द्वारा माता के आगमन की जो व्याकुलता है उसे इस गीत में बतलाया गया है। साथ ही माता के सुंदर रूप और आभूषण की प्रशंसा भी इस गाने में की गई है। इस प्रकार से यह गाना पूरी तरह से माता के आभूषण और नवरात्रि के अवसर पर पूजा-पाठ का मेल जोल है। 

इस वीडियो को देखने के लिये नीचे दिये लिंक पर जायें: 

https://youtu.be/bKoJ9kTa1lw

आम के पत्ते का पत्तल एवं करेले के पत्ते के दोने बनाये हैं

हे माँ तुम झूपती हुई चली आना

आम के पत्ते का पत्तल एवं करेले के पत्ते के दोने बनाये हैं

हे माँ तुम झूपती हुई चली आना

मैं तुम्हारा रस्ता देखते हुए तुम्हारी पूजा कर रहा हूँ

तुम झुपते हुए चली आना

लाल रंग की साड़ी में

है माँ तुम झूपती हुई चली आना

तुम्हारी नाक में नथ एवं कान में कुंडल बहुत सुंदर लग रहे हैं

हे माँ तुम झूपती हुई चली आना

तुम छम छम कर के अपने पायल बजा देना

हे माँ तुम झूपती हुई चली आना

आमा पान के पतरी करेला,

पान के दोना ओ,

झुपत झुपत आबे,

दाई दाई मोर अंगना ओ।।

रस्ता ला देखव तोरे,

करथव बंदना ओ,

झुपत झुपत आबे,

दाई दाई मोर अंगना ओ।।

लारी लारी लुगरा मा,

सजा दे चंदना ओ,

झुपत झुपत आबे,

दाई दाई मोर अंगना ओ।।

नाक नथनिया सोहे,

काना मा कुण्डाला ओ,

झुपत झुपत आबे,

दाई दाई मोर अंगना ओ।।

झम झम बजा देबे,

दाई तोर पैजनिया ओ,

झुपत झुपत आबे,

दाई दाई मोर अंगना ओ।।

आमा पान के पतरी करेला,

पान के दोना ओ,

झुपत झुपत आबे,

दाई दाई मोर अंगना ओ।।


Tags

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !