जैविक हथियार: चीन से आया कोरोना वायरस,डोभाल के बयान से इशारा

0

 चीन ने सदैव कोरोनावायरस को चीनी वायरस कहने पर विरोध जाहिर किया है, जबकि ये वायरस चीन (China Virus) की ही उपज है। सर्वविदित है कि चीन ने इसका प्रयोग जैविक हथियार के रूप में करना चाहा था, किन्तु विश्व स्वास्थ्य संगठन के चलते चीन को वैश्विक संरक्षण मिला। अब भारत की चुनौतियों को लेकर सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने भविष्य की कूटनीति का रोड मैप सामने रखा है। डोभाल के निशाने पर सीधे तौर पर चीन रहा, उन्होंने कोरोनावायरस को पूर्णत: चीन का जैविक हथियार और दुनिया में हुए इस संकट को जैविक युद्ध करार दिया है। डोभाल का ये बयान चीन के लिए मुसीबत खड़ी कर सकता है।

रोगाणुओं को हथियार का रूप दिया जा


ना चिंता का विषय

अजीत डोभाल ने कोरोनावायरस को लेकर चीन की धज्जियां उड़ाकर रख दी हैं। उन्होंने इसे एक जैविक हथियार घोषित कर दिया है। अजीत डोभाल ने कहा, “खतरनाक जैविक हथियार दुनिया के लिए गंभीर परिणाम साबित हो सकते हैं। किसी जानलेवा वायरस को हथियार बना कर इस्तेमाल करना गंभीर बात है।” उन्होंने कहा, “कोविड-19 महामारी की आपदा आर्थिक सामाजिक और मानवीय रूप से लोगों के अस्तित्व के खात्मे से संबंधित में आशंका पैदा करने की क्षमता रखने वाला है।” जैविक हथियार की बात करना और कहना कोरोनावायरस का उल्लेख अजीत डोभाल का मुख्य निशाना निश्चित तौर पर चीन ही था।

Tags

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !